Sunday, December 4, 2022
Bakaiti Ke Chanakya


चाहे फल हो, इन्सान हो अथवा कोई और : ईश्वर का बल

चाहे फल हो, इन्सान हो अथवा कोई और : ईश्वर का बल जैसे बिना पके फल में मिठास नहीं आती…

By Bakaiti Baba Desk , in प्रेरणा , at September 4, 2020 Tags: ,


चाहे फल हो, इन्सान हो अथवा कोई और : ईश्वर का बल

जैसे बिना पके
फल में मिठास नहीं आती
उसी प्रकार बिना दुखों से निकले
जीवन में निखार नहीं आता।
चाहे फल हो, इन्सान हो अथवा कोई और।
जीवन में कष्ट
हमें थकाने नहीं, सँवारने आते हैं।
हमें नींद से जगाने आते हैं।
परंतु जिसमें परमात्मा में भरोसा नहीं होता,
शरणागति का भाव नहीं होता
वह शीघ्र ही थक जाता है, निराश हो जाता है।
जिसके पास ईश्वर का बल है ,
वह न थकता है और न ही निराश होता है ।
वह तो मस्ती से अपने
कर्तव्य के पथ पर बढ़ता रहता है।

Read This Also : अथर्ववेद-परमपिता-परमेश्व

Our Other Channel Partner Kendriya News

Comments